Leadership

The Anahata Chakra Satsanga (Heart Chakra Society) is an extension of the Devi Mandir in Napa, California, which expounds the teachings and example of Shree Maa of Kamakhya and Swami Satyananda Saraswati as living guru-saints, guides along the path to enlightenment for all humanity.  The Satsanga teachings and events are meant to expound and magnify the teachings of Shree Maa and Swamiji and do not replace the traditions of the lineage or of the eternal dharma more generally.  The Satsanga falls under the non-profit status of Devi Mandir and holds no separate charter or incorporation of its own.

David Dillard-Wright, Ph.D. (Janyananda Saraswati)

Janyananda received his undergraduate degree at Emory University, where he double majored in Religion and Russian.  He then attended seminary at Candler School of Theology, also at Emory, and served as a United Methodist minister.    After seminary, Janyananda studied with ecstatic naturalist, Robert Corrington, and phenomenologist, Charles Courtney, at Drew University in Madison, New Jersey. He received his Ph.D. in 2007.  He received initiation from Swamiji Satyananda Saraswati of Devi Mandir in Napa, California.  Janyananda’s published works are Ark of the Possible: The Animal World in Merleau-Ponty, The Everything Guide to Meditation for Healthy Living (co-authored with Ravinder Jerath, MD), Meditation for Multitaskers: A Guide to Finding Peace Between the Pings, At Ganapati’s Feet: Daily Life with the Elephant-Headed Deity, and other works on bringing meditation into contemporary life.  He has also published numerous peer-reviewed articles in philosophy, religion, and ethics.

Contact: davidd (at) usca (dot) edu -or- writepage (at) gmail (dot) com

Place in Subject Line: “prayer request,” “media inquiry,” “advice/comment,” or “joining the society”

Twitter: @DavidDillardWri

Facebook: https://www.facebook.com/david.b.dillardwright

 

नेतृत्व

अनाहत  चक्र सत्संग (हृद चक्र संस्था) नापा कैलिफोर्निया में देवी मंदिर का एक हिस्सा है, यह मंदिर जीवित गुरु-संतों के रूप में कामाख्या के श्री मां और स्वामी सत्यानंद सरस्वती की शिक्षाओं और उदाहरण प्रस्तुत करता है, जो सभी मानवता के लिए आत्मज्ञान का मार्ग दिखाते हैं। सत्संग के शिक्षाओं और घटनाओं कार्यक्रम श्री मां और स्वामीजी की उपदेशों व्याख्या और आवर्धन के लिए होती हैं, और आम तौर पर सनातन धर्म और परंपराओं की जगह नहीं लेते हैं। सत्संग देवी मंदिर की गैर लाभ कार्यक्रम के अंतर्गत आता है और अपनी खुद की अलग घोषणापत्र और  समावेश रखती है।

डेविड ङीलार्ड -राइट, पीएचडी (जन्यानन्दा सरस्वती)

जन्यानन्दा, एमोरी विश्वविद्यालय में अपनी स्नातक की डिग्री प्राप्त की, उन्होंने धर्म और रूसी में स्नातक किया। इसके बाद वह एमोरी और केंङलर  धर्मशास्त्र  शिक्षालय में भाग लिया और एक यूनाइटेड मेथोडिस्ट मंत्री के रूप में कार्य कियें। शिक्षालय के बाद, जन्यानन्दा, कट्टर प्रकृतिवादी के अध्ययन कियें, रॉबर्ट कारिंटन के साथ फेनोमेनोलोगी अध्ययन कियें, मैडिसन, न्यू जर्सी में ड्रियू विश्वविद्यालय में चार्ल्स कोर्टनी के साथ अध्ययन किये। उन्होंने 2007 में अपने पीएच.डी. प्राप्त कियें । उन्होंने नापा, कैलिफोर्निया में देवी मंदिर के स्वामीजी सत्यानंद सरस्वती से दीक्षा प्राप्त कियें।

जन्यानन्दा के प्रकाशित काम है संभव के सन्दूक: र्माल्यु -पॉण्टी के पशु दुनिया, (रविंदर जेराथ, एमडी के साथ सह लेखक) स्वस्थ रहने के लिए ध्यान करने के लिए सब कुछ के गाइड, मल्टीटासकर के लिए ध्यान: पिंग्स के बीच मैं शांति ढूँढने के लिए एक गाइड, गणपति के चरणों में: हाथी-सिर देवता के साथ दैनिक जीवन, और समकालीन जीवन में ध्यान लाने पर अन्य काम करता है। उन्होंने दर्शन, धर्म और नैतिकता में कई सहकर्मी की समीक्षा लेख प्रकाशित किये।

संपर्क: davidd (at) USCA.edu या writepage (at) gmail.com

विषय पंक्ति में लिखने:”प्रार्थना अनुरोध,” “मीडिया पूछताछ,” “सलाह / टिप्पणी,” या “समाज में शामिल होना”

ट्विटर: @DavidDillardWri

फेसबुक: https://www.facebook.com/david.b.dillardwright

Hindi Translation by Maitreyi 8/18/15